Papa Ke Sath Garma Garam Chudai


Arashdeep Kaur 2017-07-04 Comments

पापा के जोर जोर से बूब्ज़ चूसने से मेरे बूब्ज़ पर लाल निशान पन गए और बूब्ज़ पर दांत गढा़ने सै दांतों के निशान बन गए। मैं पापा की पीठ पर नाखून गढा़ने लगी शर उनकी पीठ पर लाल निशान पर गए। अब पापा मेरे निप्पलों को चूसने लगे और मुझे बहुत मजा आने लगा। जब पापा निप्पलों को काटते तो मेरे मुंह से आह निकल जाती। पापा मेरे नाजुक पेट पर जीभ घुमाने लगे और दांत गढ़ा गढ़ा कर पेट भी लाल कर दिया। जब पापा मेरी गहरी नाभि में जीभ डालकर हिलाते तो मैं मचल कर पापा के बाल नोंच लेती।

मैंने पापा को सीधा खडा़ कर लिया और घुटनों के बल नीचे बैठ कर पापा का लंड पकड़ लिया और मुंह में ले लिया। पापा ने रुकने को बोला और चारपाई बाहर निकाल ली। चारपाई को रखकर पापा उस पर लेट गए और मुझे अपने ऊपर 69 अवस्था में आने को कहा। मैं चारपाई पर पापा के ऊपर आ गई, मैंने अपने घुटने मोड़कर पापा की गर्दन के पास रखकर अपनी चूत को पापा के होंठों के पास कर दी और पापा का लंड मेरे होंठों के पास आ गया।

पापा ने अपना मुंह मेरी चूत पर रख दिया और चाटने लगे। मैंने पापा के खडे़ लंड की चमड़ी पीछे की और टोप्पे पर जीभ गोल गोल घुमा कर चाटने लगी। टोप्पे पर जीभ घुमाते घुमाते मैंने पापा का लंड मुंह में ले लिया और मुंह भर कर चूसने लगी। पापा मेरे नर्म नर्म चूतडो़ं को पकड़कर मेरी चूत को चूमते हुए चूत में डालकर चाटने लगे। मुझे और पापा को बहुत मस्ती चढ़ी हुई थी, पापा मेरी चूत में जीभ डालकर बहुत जोर जोर चूत चाटने लगे और सपड़.. सपड़.. की आवाज़ आने लगी। मैं पापा के लंड को मुंह में लेकर तेज़ी से सिर नीचे करके ऊपर उठाती।

पापा का लंड मेरे गले में उतर जाता और फिर मैं बाहर निकाल लेती। मैं पापा का लंड बहुत तेज़ी से गले के अंदर-बाहर करने लगी और गप्पपप… गप्पपप.. की आवाज़ आने लगी। हम दोनों बहुत गर्म हो चुके थे और बारिश का पानी महौल को और भी सेक्सी बना रहा था। हम बाप बेटी सेक्स की दुनियां में खोए हुए अपने रिश्ते से बेखबर लंड एवं चूत चुसाई के मजे में सब कुछ भूल चुके थे।

पापा ऐसे ही चारपाई पर सीधे लेटे रहे और मैं उनके ऊपर सीधी हो गई। मैंने पापा के होंठों को चूमकर पूछा पापा चूत चोदोगे या गांड चोदोगे। पापा बोले चूत और गांड दोनों चोदूंगा। मैंने हंस कर कहा पापा आपके क्या दो दो लंड हैं जो एक साथ चूत एवं गांड में घुसा दोगे, मैं यह पूछ रही हूं पहले चूत में लंड डालोगे या गांड में। पापा बोले तेरे एवं तेरी मम्मी को दो लंड भी कम पडे़ंगे। मैंने कहा ये तो है पापा जब तीनों छेदों में एक साथ लंड घुसे होते हैं तब मजा ही कुछ और होता है। फिर मैंने पापा को उकसाने केलिए कहा आपका एक लंड ही तीन के बराबर है और मेरे तीनों छेदों को बारी बारी से वीर्य से भर देगा।

पापा बोले चल अर्श गांड से शुरुआत करते हैं। मैंने कहा ठीक है मेरे चोदू पापा गांड से शुरुआत कर लो। पापा बोले ठीक है मेरी छिनाल बेटी लेकिन एक बार में पूरा अंदर घुसा लेना। मैंने कहा मैं आपकी बेटी हूं पापा कोई रंडी नहीं जिसको पैसे लेकर चोदने को लाए हो, मैं धीरे-धीरे लंड अंदर लूंगी। आपका लंड बहुत मोटा एवं लंबा है जोर से लिया तो मेरी गांड फट जाएगी। पापा बोले वैसे तू किसी रंडी से कम नहीं है चल जैसी तेरी मर्जी, तू धीरे-धीरे ले ले। मैंने पापा के लंड पर अपनी गांड का छेद सैट किया जो बारिश के पानी से गीला हो चुका था।

पापा को लगा मैं धीरे-धीरे लंड अंदर लूंगी लेकिन मैंने पापा की छाती पर हाथ रखकर बहुत तेज़ी से अपनी गांड नीचे धकेल दी। पापा का लंड मेरी गांड की दीवारें खोलता हुआ मेरी गांड में जड़ तक समा गया। पापा इतने तेज झटके केलिए तैयार नहीं थे, पापा का लंड मेरी टाईट गांड के छेद में रगडा़ गया। पापा बोले बहनचोद साली कुतिया रंडी धीरे-धीरे बोलकर मेरे लंड की मां चोद दी। पहले बोल देती छिनाल, मैं अपने लंड पर थूक लगा लेता। मैंने कहा चुप कर बहनचोद थोडी़ देर में ठीक हो जाएगा फिर गांड उठा उठा कर चोदने लगेगा।

थोडी़ देर मैं पापा के लंड को अपनी गांड में धीरे-धीरे अंदर-बाहर करने लगी। अब पापा नार्मल हो गए और मुझे कमर से पकड़कर गांड हिलाते हुए मेरी गांड चोदने लगे। मैंने पापा से कहा क्यों मादरचोद पापा अभी आपकी गांड फट रही थी अभी दे दना दन चोद रहे हो। पापा बोले तू है ही इतनी गर्म कुतिया कि तुझे जो जोर जोर से न ठोके वो काहे का मर्द, तेरी जैसी गर्म चुद्दकड़ रंडी किसी किसी नसीब वाले को मिलती है। जैसे तू लंड चूस रही थी तभी समझ गया था कि तेरे में चुदाई की आग बहुत है।

आज तक तेरी मां और बुआ के अलावा जिन लड़कियों और औरतों को मैंने चोदा है तू सब से सेक्सी और गर्म है। तू भी अपनी मां और बुआ जैसी चुद्दकड़ रंडी है तुझे चोदने में बहुत मजा आ रहा है। मैंने पापा के हाथ की उंगलियों में अपनी उंगलियों को फंसा कर पापा के लंड पर जोर जोर से फुदकने लगी और पापा भी नीचे से मेरी गांड में तेज़ी से लंड पेलने लगे। बारिश में हम भीगे हुए थे और लंड के गांड के अंदर-बाहर होने से फटाच फटाच की आवाज़ आने लगी।

Comments

Scroll To Top