Clerk Se Patni Banne Ka Safar – Part 1


Click to this video!
Deep punjabi 2016-08-12 Comments

अभी थोड़ी दूर ही गए होंगे के उनकी कार रस्ते में बन्द हो गयी। अब दोनों एक दूसरे का मुह देखने लगे। इतने में विवेक कार से निचे उतरा और बोर्नट उठाकर उसकी जांच करने लगा। करीब आधे घण्टे की मेहनत के बाद कार स्टार्ट तो हो गयी पर विवेक बुरी तरह से भीग गया। ऊपर से ठंडी हवा चलने से उसका बुरा हाल हो रहा था। रास्ते में आरती का घर आ गया उसको वहाँ उतारा, जब आगे जाने लगा गाड़ी फेर खराब हो गयी।

आरती – सर इफ यु डोंट माइंड । एक बात बोलू ?

विवेक – हांजी कहिये ?

आरती – सर रात बहुत हो चुकी है। आप यहाँ मेरे घर रुक जाइये। वेसे भी मैं अकेली रहती हूँ। आपकी गाड़ी तो खराब है क्या पता कब घर पुहंचाये आपको। सो बेहतर यही है एक रात मेरे घर रुक जाइये। सुबह चले जाना। तब तक बारिश भी रुक जायेगी और गाड़ी रिपेयर करने वाले भी अपनी गैरज़ो में आ जायेंगे।

विवेक – देखो आरती मैं तुम पर बोझ नही बनना चाहता। भैया भाबी मेरी फ़िक्र कर रहे होंगे। मेने उन्हें फोन पे बताया भी नही है गाड़ी खराब होने का। सो मुझे जाना पड़ेगा।

आरती – वैसे बोस आप हो सर। पर इस वक़्त एक दोस्त के नाते बोल रही हूँ। एक रात रुकने में आपको क्या दिक्कत है। मुझे भी चिंता रहेगे के घर शायद आप पहुंचे या नही ।

(आरती ने अपनापन जताते हुए कहा)

आखिर विवेक मान गया और गाड़ी को दोनों ने धक्का लगाकर गेट के अंदर करके लॉक करके अंदर चले गए।

अब वो दोनों भीग गएे और उनके कपड़े शरीर से चिपक गए थे। जिसकी वजह से उनका शरीर बाहर से ही साफ साफ दिखने लगा था। दोनों ने यह बात नोट करली थी और हल्की सी स्माइल के साथ दोनों एक दूसरे को चिड़ा रहे थे।

पहले आरती भाग कर बाथरूम में गयी और अपने कपड़े बदल कर बाहर आ गयी फेर एक तौलिया विवेक को देते हुए बोला,” सर जी आप भी भीगे कपड़े उतार दो वरना आपको सर्दी लग जायेगी। इस वक़्त जेंट्स के कपड़े तो नही है यहाँ आप यह मेरा पयज़ामा और शर्ट पहन लो और आपके कपड़े मशीन में डालकर धो देती हूँ। जो सुबह तक सुख जायेंगे।

तब तक मैं चाय का प्रबंध करती हूँ।

विवेक ने भी कपड़े बदल लिए और घर पे फोन करके कह दिया के एक दोस्त के घर कार खराब होने की वजह ऐ रुक गया है। दोनों एक सोफे पे बैठ कर चाय का आनंद ले रहे थे। फेर दोनों ने साथ में खाना खाया और अब दिक्कत थी सोने की क्योंके आरती के पास एक ही बेड था और सोने वाले दो जने।

विवेक – ऐसा करो आरती मैं सोफे पे सो जाता हूं। आप अपने बैड पे सो जाना।

आरती – नही सर जी आप छोटे से सोफे पे कैसे सो पाओगे?

विवेक – सोना तो पडेगा ही न और कोई रास्ता भी नही है।

आरती – रास्ता तो है पर अगर आप बुरा न मानो तो ।

विवर्क – हद है यर मेने बुरा क्यू मानना आप बोलो बस ?

आरती – सर जी, एक ही बिस्तर पर सो जाते है मेरी टांगो की तरफ आपका सर होगा और आपकी टांगो की तरफ मेरा सर। एक ही रात की तो बात है सुबह फेर रोज़ाना की तरह हम अपने अपने बिस्तर पे सोयेंगे।

विवेक कुछ देर सीचने के बाद चलो ठीक है जैसी तुम्हारी मर्ज़ी।

आरती ने बिस्तर बिछाया पहले तो बैठकर बाते करते रहे। आज दोनों की एक बिस्तर पे पहली इकठी रात थी। जो शादी बाद ही होनी चाहिए थी। विवेक ने अपने बारे में बताना शुरू किया के कैसे उसके बड़े भाई ने माँ बाप के बाद उसको पाला पोसा है और आज इस मुकाम तक पहुंचा हूँ।

कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार निचे कोममेंट सेक्शन में जरुर लिखे.. ताकि देसी कहानी पर कहानियों का ये दोर आपके लिए यूँ ही चलता रहे।

जब आरती से उसका पिछोकड जानना चाहा तो बोली,” क्या करोगे सर जी मेरा अतीत जानकर, एक बदकिस्मत लड़की हूँ। जिसे पहले उसके प्रेमी जिसको अपनी जान से भी ज्यादा प्यार करती थी उसने धोखे में रखा, साथ जीने मरने की कस्मे खाकर भी अकेला छोड़कर पता नही किधर चला गया।

आज तक न उसका फ़ोन न कोई चिठ्ठी वगैरा मिली है। फेर जब मेरी शादी हुई तो उनसे मेरा दिल नही मिला, क्योंकि उनका किसी अोर स्त्री के साथ चक्र था।अकेले ज़िस्म मिलने से क्या होगा? जब दिल ही ना मिले।

पढ़ते रहिये.. क्योकि ये कहानी अभी जारी रहेगी और मेरी मेल आई डी है “[email protected]”.

Hindi Sex Stories

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top