Ek Aashik Anjaana – Part 2

Click to this video!
Namitayadav 2016-07-18 Comments

Hindi Sex Stories

हेलो दोस्तों, मैं नामित यादव इंदौर से, कैसे ही आप सब, जैसा की आपने मेरी पिछली कहानी कौमार्य भंग हुआ यार के साथ-में पढ़ा की दीपेश मुझे कली से फूल तो कर चुका था लेकिन उसे अभी भी संतुष्टि नही हुई थी, वो मेरी चुदाई और घमासान करना चाहता था..

आगे की कहानी..

उस दिन की चुदाई के बाद मेरी हालत थोड़ी ख़राब हो गयी और चूत सूज के ब्रेड जैसी हो गयी फूली-फूली सी, ये देखके उसके चेहरे पर शैतानी हँसी आयी और मुझसे बोला की ओपनिंग में ही तेरी बुर ने हथीयार डाल दिए तो आगे इसका क्या होगा.

मैंने भी अपने प्यार की खातिर बोल दिया की जो भी होगा देखा जायेगा, पर मुझे पता नहीं था कि मेरे साथ अब जो होने वाला है उससे में दीपेश की हमेशा के लिए रखैल बनके रह जाउंगी.

उस दिन घर पहुचने के बाद मुझे दर्द का एहसास हुआ और ये एहसास मुझे कुछ दिन सताते रहा, कुछ दिनों बाद मेरी चूत में खुजली होने शुरू हो गयी मैंने दीपेश को बताया तो वो बोला की क्या बात है मेरी रानी की मुनिया लण्ड मांग रही अब तो.

मैंने कहा कि जो भी हो मुझे इससे आराम चाहिए मेरे राजा अब मैं क्या करूँ तो वो बोला की कुछ जामाता हूँ, फिर मैंने पहली बार अपनी चूत में ऊँगली की और असंतुष्ट रह गयी.

2 दिन बाद उसका फोन आया और बोला की कॉलेज मे एक्सिबिशन स्टार्ट हो रहे है तो तू फ्री रहेगी तो चल कल माहि चलते है, मेरी खुजली की वजह से मैं उसे मना नही कर पाई और चल दी उसके साथ, रस्ते में उसने मेडिकल पे गाड़ी रोकी और कुछ दवाई लेकर आ गया और एक डेरी पे भी रुका और 1 लीटर दूध ले लिया मैंने पूछा इसकी क्या ज़रूरत है तो बोला पता चल जायेगा.

फिर हम उसी फ्लैट पर पहुँचे जहा मेरी पलँग-तोड़ चुदाई हुई थी, उसने मुझसे कहा कि ये दूध गर्म कर दे और खुद बाथरूम चला गया.

वापस आके उसने एक टेबलेट निकाली और मुझे देके बोला ये खा ले और खुद ने भी एक पिंक कलर की टेबलेट दूध से लेली, फिर उसने ऊपर से मेरी चूचिओ पर हाथ लगाना, दबाना और सहलाना चालू कर दिया और इन सब के बीच कब मेरे कपड़े उतर गए मुझे पता ही नहीं चला, मैं सिर्फ ब्रा-पेन्टी में खड़ी थी और उसने भी कपडे उतार के बस अंडरवियर में था, जिसमे उसका हब्शी लण्ड अलग ही झलक रहा था.

अब उसने मेरी ब्रा-पेन्टी भी उतार के अलग फेक दी मैं पूरी नँगी मेरे यार दीपेश के सामने खड़ी थी और वो मुझे भूखे शेर की निगाहों से देख रहा था, उसने अपना अंडरवियर भी निकाल दिया अब उसका हब्शी लण्ड मेरे सामने था और मैं उसे देखती ही रह गयी पहले के मुकाबले आज दीपेश का लण्ड काफी बड़ा दिख रहा था करीब 7.5 इंच लम्बा और 2.5 इंच मोटा.

मैं देख के डर गई तो उसने मेरे बाल पकड़ के नीचे बिठाया और अपना मूसल मेरे मुंह में ठूस दिया जिससे मेरी आवाज ही बंद हो गयी और आँख में आंसू आ गए, मुझे उसका लण्ड अपने गले ने जाता हुआ महसूस हो रहा था जिससे मेरी आवाज गूगऊऊ गूऊऊ करके निकल रही थी फिर वो ताबड़तोड़ मेरे मुंह की चुदाई करने लगा जिससे मुझे साँस लेने में तकलीफ होने लगी, कभी एकदम रुक जाता तो कभी पूरी ताकत से मेरे हलक तक लण्ड उतार देता और मैं इधर-उधर हाथ-पैर मारती छटपटाती हुई.

लगभग 30 मिनट के बाद उसको मुझपे रहम आया और उसने अपना हब्शी लण्ड मेरे मुंह से बाहर खिंचा, मैं तो जैसे पूरी रंडी बन गयी थी उसकी, अब वो मेरी चूचिया मसलने लगा और चूत सहलाने लगा तो मैं सीत्कार उठी उइईईईईई मा यय्ये क्या कर रहे हो आआआआह बाप रे बाप, उसे बड़ा मजा आ रहा था मुझे तड़पते हुए देख के..

फिर वो नीचे आया और मेरी चूत पर अपने होंठ रख दिए मैं तो जैसे दीवानी हो गयी और उछल पड़ी ऐसा करते ही उईईईईईई आआआहह ऊऊऊऊऊ मर गयी रे व्व्व्व्वाआऊ ऐसे ही मेरे राजा बस ऐसे ही करते रह क्या जादू क्र रहे हो आज दीपेश मेरे स्वामी मेरे खसम, आज क्या ही गया तुम्हें, वो तो बस चुपचाप अपने काम में लगा था.

फिर उसने मेरी चूत पर 2 तमाचे लगाये और मुझे अपनी तरफ खिंचा अपना हब्शी लण्ड सेट किया छेद पर एक जोरदार धक्के के साथ लण्ड पूरा मेरी मुनिया में पेल दिया और धक्का लगते ही में हवा में उछली मछली की तरह जैसे कोई लोहे की मोटी रॉड दाल दी मेरे अंदर गर्म-गर्म उईईईईईई आआहहहह मर गयी रे जालिम निकाल ले इसे बाहर उसने मेरी एक न सुनी और पूरा लण्ड बहार खिंच के एक और धक्का मारा पूरी ताकत से जिससे मेरी बच्चेदानी तक हिल गयी और मेरे आंसू निकल आये रेरेरेरेरेरे मा री आआआआआह ह ह ह हहहहहह मर गयी रे में तो..

अब उसने धकापेल मेरी चुदाई स्टार्ट कर दी जिससे मेरी चीखे और सित्कारे कमरे में गूंजने लगी इस लग रहा था मानो गजब की ताकत हो उसमे और कोई मशीन मेरी चूत की दीवारों को छील रही है अंदर-बाहर दीपेश इतनी तेजी से मुझे छोड़ रहा था जैसे ब्लू फिल्मो में पोर्नस्टार चोदते है पर मुझे आनंद की असीम सीमा प्राप्त हो रही थी मैं एक बार झड़ गयी थी और दूसरी बार झड़ने की कगार पर ही थी तेज चीख के साथ मेरा पानी छूटा उइईईई गयीईईई मैं तो मेरे राजा व्व्व्व्व्व्वूओ आआह आआआहह..

Comments

Scroll To Top