Institute Ki Teachers Ke Sath Group Sex


Click to Download this video!
mohitbajaj 2018-03-18 Comments

हेल्लो दोस्तों, मैं मोहित बरनाला पंजाब से हूँ, अपने मेरी पहली स्टोरी पड़ी होगी, रिया के साथ मेने कैसे मजे किए और वहां से मेरी कॉल बॉय बनने की शुरवात हुई.

जो लोग मुझे नहीं जानते मैं उनको अपने बारे मैं बता दूं, मैं मोहित हूँ, मेरी उम्र २८ साल है, रंग गोरा है, दिखने मैं स्मार्ट हूँ और अब मैं एक प्रोफेशनल कॉल बॉय बन चूका हूँ.

किसी बी मैडम को मेरी से सर्विसेज लेनी है, तो आप मेरे को मेल कर सकती हो, सटिस्फैक्शन की पूरी गरंटी वरना रुपया बापस, अब ज्यादा टाइम न लेते हुए सीधा रियल सेक्स स्टोरी पर आतां हूँ.

जब मैं और रिया सुबह उसके घर से ऑफिस आए तो रिया नै मुझे इंस्टिट्यूट पर छोड़ दिया, और वो अपने ऑफिस चली गई, मैं अपने इंस्टिट्यूट मै एंटर कीआ, और पहले ही मेरी काव्य मैडम के साथ मुलाकात हुई.

मैंने मैडम को हाई बोला, उसने मुझे हाई बोला, मैंने कहा मैडम कैसे हो आज आप बहुत अच्छे लग रहे हो, उसने कहा अच्छा! मैने कहा हाँ मैडम.

मैडम की आयु ४० थी, ब्रेस्ट साइज ३६ और बड़ी गांड उस दिन बहुत क़यामत लग रही थी, मैडम ने मुझे क्लास में मेरे को अपने खड़े लंड को पेनट में मसलते हुए देख लिआ था.

इसी लिए आज उनके बात करने का स्टाइल चेंज था, आंखे बहुत निशली लग रही थी, जैसे मुझे कुछ कह रही हो, मैं समज गया था की लोहा गर्म है, बस सिक्स लगाने की जरूरत है.

अब फिर मैं क्लास में आ गया और मैं लास्ट बेन्च पर बैठा था, फिर काव्य मैडम अंदर आई, वो क्लास मैं मेरे को ढूंढ़ने लगी, की मै कहा बैठा हूँ, और जब उसने मुझे लास्ट बेंच पर देखा, तो उसने कहा मोहित आगे फस्ट बेंच पर बैठो, मै आगे बेंच पर चला गया.

उस दिन मैडम मेरे को अपने बूब्स के क्लीवेज बहुत दिखा रही थी, जे बात मैंने नोट की और जिस से मेरा लंड टाइट हो गया था, और मेरा हाथ अपने लंड पर था, जो मैडम ने देख लिया था, जब वो सबको पड़ा रही थी.

तो मैंने जान बूझ कर सवाल पूछा, ये मैडम कैसे होगा, तो वो मेरे पास आई और समझाने लगी, धीरे से उसने अपना हाथ मेरे लंड पर रखा और जोर से दबा दिआ.

जब वो निचे झुकी और मैंने मौका देख कर अपना हाथ उसके बूब्स पर रख दया, और मेरी कॉपी पर उसने लिखा बाथरूम मैं आओ, फिर वो बाथरूम चली गई.

१० मिनट बाद मैं भी बाथरूम मैं चला गया, और फिर दोनों तरफ देख कर मैं लेडीज बाथरूम घुस गया, बाथरूम मैं लेडिस बाथरूम ४ बने हुए थे, फिर मैं काव्य के बाथरूम मैं घुस गया, मेरे गुस्ते ही वो मुझे से चिपक गई और उसने मेरे लंड पर अपना हाथ रख दिया, और पेंट कें ऊपर से मसलने लगी.

मैंने भी अपने हाथ उसके हाथों पर टिका दीए और किस करने लगा, और काव्य ने मेरी पेंट की ज़िप खोल कर मेरे लंड को बहार निकला और मसलने लगी, फिर मैंने अपना हाथ उसके अंडरवियर के अंदर घुसा दिआ और उसकी गांड को मसलने लगा और फिर मैने उसकी जीन्स का बटन खोल दिया, और उसके बूब्स को अपने हाथो से मसलने लगा.

उसने भी मेरी पेंट उतार दी और अंडर वियर भी और मेरी शर्ट के बटन खोल दिए, मुझे बाथरूम में मुझे पूरा नंगा कर दिआ और वो अपने मुँह मैं मेरे लंड को लेकर चूसने लगी और मुझे बहुत मजा आ रहा था, मैं तो स्वर्ग मैं था.

रात को रिया के साथ सेक्स और सुबह काव्य के साथ सेक्स, फिर मैं अपने हाथो से उसके बूब्स के निप्पल को मसलने लगा, निपल पुरे कड़क थे, फिर वो खड़ी हो गई और मैं निचे बैठ कर उसकी चूत को चाटने लगा, चूत बिलकुल गीली पड़ी थी और उसके पानी का स्वाद भी नमकीन था.

मैंने अपनी जीब पूरी उसकी चूत के अंदर घुसा दी और जोर जोर से अंदर बहार करने लगा, और अपनी एक उंगली उसकी गांड में देने लगा, काव्य अहह अहह अहा कर रही थी.

इतने में बाथरूम में कोई आई तो हम चुप हो गये और मैं उठ कर उसके होठो को चूसने लगा, इतने वो जो बाथरूम मैं आई थी चली गई, हम फिर शुरू हो गए. यह कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

फिर मैने उसको घोड़ी बना कर अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया और एक झटके मैं अंदर घुसा दिआ, उसके मुँह से चीख निकल गई, काव्य बोली बेबी आराम से दर्द होता है, तुम्हारा बहुत बड़ा है.

तो फिर मैं जोर जोर से फिल्मी स्टाइल में जटके मारने लगा, काव्य हूँ हूँ हूँ हूँ हूँ हां करने लगी और बाथरूम मैं उसकी अबाज गूंज रही थी, फिर मैंने उसके मुँह पर अपना हाथ रख लिआ और जोर जोर से अंदर बहार करने लगा.

काव्य तो एक बार जड़ गई थी लेकिन मैं नहीं जड़ा था, मेरी स्पीड चालू थी और फिर मैं उसके बूब्स दबाने लगा, उसके बाद मैंने अपना लंड बहार निकला और मैं टॉयलेट की सीट पर बैठ गया, और वो अपनी दोनों टंगे फैला कर मेरे लंड के ऊपर बैठ गई, और वो धीरे धीरे अपनी चूत को हिलाने लगी.

मेरे सर पर अब पूरा सेक्स स्वार था और मैं पूरा उसमे डूबा हुआ था, काव्य मेरे होठो को जोर जोर से चूस रही थी, मैंने उसको अपनी बाँहों में कस के पकड़ा हुआ था, फिर मैं उसके अंदर ही झड गया, और साथ मैं वो भी झड गई और हम दोनों ने एक दूसरे को कस के बाँहों में भर लिया.

Comments

Scroll To Top