Mummy Ka Dulaara


Click to Download this video!
AlexPrince 2018-02-03 Comments

नमस्ते दोस्तों, पहले तो मैं आप सब लोगो को धन्यवाद् कहना चाहता हु. आपको मेरी पहली वाली कहानी इतनी अच्छी लगी. उस कहानी को 10,000 के ऊपर लाइक्स मिले हे . अगर आपने वो कहानी नहीं पड़ी हे तो प्लीज पढली जियेगा. उस कहानी का नाम हे “माँ और बहनो का चुदक्कड रूप“.

तो मैं अपनी नई कहानी शुरू करने जा रहा हु…

मेरा नाम राहुल है. मैं खुद को बहुत भाग्यशाली समझता हूं, मैंने जो कुछ सोचा है वह सब कुछ मुझे मिलता गया है. मुझे किसी भी चीज के लिए संघर्ष नहीं करना पड़ा. आज मैं आप लोगों को मेरे जीवन का एक सच्चा अनुभव बताने जा रहा हूं.

मैं महाराष्ट्र के नागपुर का रहने वाला हूं. मैं मेरे मम्मी के साथ रहता हूं. मेरी मम्मी एक स्कूल में प्रिंसिपल है. मेरे मम्मी और पापा का बहुत साल पहले तलाक हो चुका है. मैं 17 साल का हूं और मेरी मम्मी की उम्र 42 साल है. मैं अभी कॉलेज में पढ़ रहा हूं, कुछ ही दिनों के बाद मेरे 12वीं कक्षा के परीक्षाएं है.

मेरी मम्मी मुझे पढ़ाई में बहुत मदद करती है. मैं बचपन से ही होनहार विद्यार्थी रहा हूं. मैं हर क्लास में अव्वल आता हूं, मेरी मम्मी मुझसे बहुत प्यार करती है. मैं बचपन से ही बहुत शर्मीला हूं. मैं किसी से ज्यादा बात नहीं करता. मेरे ज्यादा दोस्त नहीं है और मैं लड़कियों से बात करने में हमेशा कतराता हूं.

यह बात तकरीबन 3 साल पहले की है जब मैं सातवीं कक्षा में पढ़ता था, मेरे लंड पर बाल आने शुरू हुए थे और मेरा लंड काफी बड़ा हो रहा था. मेरा लंड बात-बात पर खड़े हो जाता था इससे मुझे बहुत शर्म आती थी, मैं उसे छुपाने की पूरी कोशिश करता था. यह कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

मेरे लंड पर काफी बाल बढ़ चुके थे अब मुझे लगा कि उसे कटवाने की जरूरत है. मैंने इससे पहले अपने बाल कभी भी नहीं कटवाए थे तो पहली बार बाल कटवाने में मुझे डर लग रहा था और यह बातें मम्मी को बताने में मुझे बहुत शर्म आती थी.

तब मैंने सोचा कि यू ट्यूब से वीडियो देखकर बाल कैसे कटवाते हैं यह सीखलू पर यू ट्यूब पर लंड पर से बाल कैसे कटवाते हैं इसका कोई भी वीडियो नहीं था जब मैंने खोजना शुरू कर दिया तब मुझे आदमियों के दाढ़ी बनाने के वीडियो दिखे.

अब मुझे पता चल चुका था कि बाल कैसे कटवाते हैं तो मैं बाजार चला गया और जरूरी सामान खरीद कर ले आया. जब मम्मी घर पर नहीं होगी तब बाल कटवा लूंगा ऐसा मैंने सोचा.

मैं और मेरी मम्मी रोज एक साथ स्कूल के लिए निकलते थे और एक साथ ही घर आते थे. तो मुझे बाल कटवाने के लिए समय ही नहीं मिल पाता था. मुझे बहुत दिनों तक इंतजार करना पड़ा पर जब हमारी परीक्षाएं खत्म हुई तो मम्मी को स्कूल जाना पड़ता और मुझे छुट्टी रहती थी.

जब मम्मी स्कूल गई तब मैंने बाल कटवाने के बारे में सोचा और अपना सारा सामान लेकर बाल कटवाने के लिए बाथरुम चला गया मैंने पहले शेविंग क्रीम लगाई और रेजर से अपने बाल कटवाने लगा पर थोड़ी देर बाद मुझसे गलती से ज्यादा कट हुआ और बहुत खून निकलने लगा मैं बहुत डर गया, मैंने जल्दी से वहां पर हल्दी लगवा दी.

मुझे बहुत जलन हो रही थी तो मैं वैसे ही पंखे के नीचे पैर फैला कर बैठ गया. मैंने उस दिन अंडरवेयर नहीं पहनी और ऊपर से सिर्फ बरमूडा पहन लिया. जब शाम को मम्मी घर आए तब मम्मी के साथ बातें करने में खाना खाने में और टीवी देखने में समय का और दर्द का कुछ पता ही नहीं चला.

जैसे ही मैं रात को मेरे रूम में सोने के लिए चला गया तब दर्द और जलन का एहसास हो रहा था तब मैंने सोचा कि क्यों ना बरमूडा उतार कर सोया जाए. मुझे बाद में पता चला कि मेरे कमरे का लॉक अंदर से खराब हो चुका है तो इससे मम्मी कमरे में आने जाने का खतरा लगा रहता है.

पर मुझे बहुत जलन हो रही थी तो मैं यह खतरा उठाने के लिए तैयार हो गया. मुझे पता था कि मम्मी सुबह 6:00 बजे उठती है तो क्यों ना मम्मी से पहले उठकर बरमूडा पहना जाए ऐसा मैंने सोचा. यह बात मुझे अच्छी लगी मैंने सुबह 5:30 का अलार्म लगा दिया और बरमूडा निकाल कर सो गया.

सुबह के 5:30 बज गए और अलार्म बजने लगा पर मैं बहुत गहरी नींद में था इसलिए अलार्म के बजने का मुझे कुछ पता ही नहीं चला. मम्मी सुबह 6:00 बजे उठी थी और वह फ्रेश होने लगी.

छुट्टियां चल रही थी इसीलिए मम्मी ने मुझे सुबह जल्दी नहीं उठाया. मम्मी झाड़ू लगाने के लिए मेरे कमरे के सामने आगई. तब मेरा सिर दरवाजे के तरफ था और मैं एक साइड अपने हाथ के बल सो रहा था.

मैंने अपने ऊपर चद्दर ओढ़ रखी थी इसलिए मम्मी को मेरे रौद्र रूप नहीं दिखाई दिया. मम्मी झाड़ू लगाते लगाते मेरे पास आ पहुंची. उनका ध्यान मेरी तरफ नहीं था पर जब उन्होंने बेड पर बिखरी हुई किताबें देखी तो मम्मी ने झाड़ू नीचे रख दिया और एक-एक किताबें उठा कर वह टेबल पर रखने लगी.

मैं कुछ किताबों के ऊपर सोया हुआ था तो मम्मी ने वह किताबें निकालने के लिए मेरे ऊपर से चद्दर हटवा दी. जब मम्मी ने चद्दर हटवाई तो वह थोड़ा हड़बड़ा गई क्योंकि मैं नंगा सो रहा था तो वह जल्दी से कमरे के बाहर जाने के लिए निकली तो उन्हें याद आया कि वह झाड़ू कमरे में ही भूल चुकी थी. जब वह झाड़ू लेने के लिए पीछे मुड़ी उनका ध्यान मेरी तरफ था, उनको मेरा लंड साफ दिखाई दे रहा था.

Comments

Scroll To Top