Sadak Banane Wali Ek Ladki


Click to this video!
Deep punjabi 2016-08-23 Comments

उसे मेने एक और वीडियो दिखाई जिसमे एक पत्नी अपने पति की मोजुदगी में ही चोर से चुदवा लेती है पर अपने पति को पता तक नही चलने देती।

दोनों वीडियो देखकर वो बहुत गर्म हो गयी और अपने आप उसका हाथ मेरे तने लण्ड पे आ गया और मेरी निकर उतार कर मेरे लण्ड को इस फ़िल्म वाली लड़की की तरह बैठकर चूसने लगी। उसकी आँखों और स्माइल से पता चल रहा था के उसको बहुत मज़ा आ रहा है।

करीब 10 मिनट तक मेरा मोटा लण्ड चूसने से उसका मुह दर्द करने लगा और वो बोली – अब आप डाल दो बस अपना लण्ड मुझसे और बर्दाश्त नही हो रहा साब जी और थोडा जल्दी करो कही मुझे साथ लेबर वाले आवाज़ न लगा दे।

मेने उसकी बेकरारी को समझते हुए। उसका घागरा उठाकर उसकी हल्के क्रीम रंग की पैंटी को हाथ लगाकर देखा तो वीडियो देखकर गर्म होने की वजह से उसकी पेंटी से सुमरी का चूत रस बाहर निकल कर बह रहा था।

वो बोली – सब जी, ज्यादा कपड़ो की खीचा तानी न करना वरना फट जायेंगे और शाम तक मुझे यहां रहना है। तो बड़ी मुशकिल हो जायेगी।

मेने उसकी मज़बूरी को समझा और उसे निश्चित हो जाने का बोलकर लेट जाने का कहा।

वो आज्ञाकारी बच्चे की तरह मेरी बात मान कर बैड पे लेट गयी। मेने उसकी चोली को निचे से थोड़ा उठाकर छोटे छोटे नुकीले मम्मो को चूमाँ। जिस से वो मज़े में आकर आआआह्ह्ह.. सीईईईईईई.. उफ्फ्फ्फ्फ्फ.. उईईईईइ माँ.. की आवाज़ों से मौन करने लगी।

अब मेने उसकी भीगी पैंटी को उतारा और हाथ की बड़ी ऊँगली उसकी चूत में घुसाकर अंदर बाहर करके उसकी गहरायी मापने लगा।

ऊँगली अंदर जाते ही उसकी आआह्हह्हह निकल गयी। उसकी चूत पे थोड़े काले बाल थे। एक दम टाइट चूत थी। जब मेने ऊँगली निकाली तो ऊँगली पूरी तरह उसके चुत रस से सनी हुई थी।

मेने उसकी टांगे अपने कन्धो पे रखकर अपने लण्ड पे थूक लगाया और लण्ड को उसकी चूत के मुह पे सेट करके हल्का सा धक्का दिया। तो लण्ड का सुपाड़ा उसकी चूत में धस गया। उसकी एक ज़ोर से चीख निकल गयी और वो रोने लगी । मेने अपना हाथ उसके मुह पे रखा तांके आवाज़ बाहर न चली जाये।

वो बोली – मुझे छोड़ दो साब मेने नही चुदवाना आपसे।

वो मुझे छोड़ देने की बीनती कर रही थी, पर मैं ऐसा हसीन मौका गंवाना नही चाहता था। मेने ठीक होकर एक और झटका मारा तो पूरे का पूरा लण्ड उसकी चूत में घुस गया। उसकी आँखों में आंसू आ गए और वो दबी सी आवाज़ में रोने लगी।

इधर मैं लगातार हिट पे हिट किये जा रहा था। अब उसका दर्द कम हो रहा था और उसे मज़ा भी आ रहा था। थोड़ी देर बाद उसका रोना भी बन्द हो गया और उसकी आँखो से बेहता पानी भी सूख गया था। अब वो नीचे से गांड उठा उठाकर चूत चुदवा रही थी।

करीब 10 मिनट बाद वो बोली और तेज़ करो साब जी, और तेज़ बहुत मज़ा आ रहा है। काश हर रात मुझे ऐसा मज़ा मिले और एक लम्बी आआआआह.. से झड़ गयी।

उसकी चूत का गर्म गर्म पानी मुझे अपने लण्ड पे महसूस हो रहा था। अब वो एक दम निहात होकर थक कर ऐसे लेटी रही जेसे शरीर में जान न बाकी बची हो।

अब मेने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी और करीब अगले 5 मिनट में अपना गर्म गर्म पानी उसकी छोटी सी चूत में भर दिया। उसके चेहरे पे सन्तुष्टि के साफ भाव दिख रहे थे।

करीब 10 मिनट हम ऐसे ही आराम की हालात में पड़े रहे। फेर हम उठे अपने आप को साफ़ किया। कपड़े पहने और एक दूसरे को किस किया।

जाते जाते मेने उसे 500 का नोट उसपे तरस खाकर दिया।

वो बोली – साब जी आपसे मिलकर बहुत ख़ुशी हुई, आपसे सेकस भी अपने दिल की ख़ुशी के लिए किया है, मैं कोई पेशेवर रंडी नही हूँ। पैसे देकर आप मुझे गाली दे रहे हो।

मैं – नही सुमरी, ये पैसे सेक्स के लिए नही है। ये पैसे आप पे तरस खाकर दिए है। इतनी धुप में शाम तक सड़क पर रहोगी। अपने अच्छे से कपड़े ले लेना या जो दिल करे खा पी लेना।

वो (पैसे पकड़ कर भावुक हो गयी) – साब जी, आपको बहुत याद करुँगी। मेने उसे अपना पर्सनल मोबाइल नम्बर दिया और कहा जब भी तुम्हारा दिल करे मुझे इस नम्बर पे फोन कर लेना।

हमने एक दूसरे को बाँहो में लेकर एक सेल्फ़ी ली और भी उसकी बहुत  सारी फोटोए खिंची जो के उसकी आखरी निशानी के तौर पे अपने पास रखली।

उसने भीगी पलको से मुझे विदा ली।

उसके जाने के बाद मेरा मन भी थोड़ा सा भावुक हो गया।

उस दिन के बाद वो हमारे गांव में कभी नही आई।

उसके बाद एक बार उसने किसी के मोबाइल से मुझे फोन किया और बहुत रोई के आपकी बहुत याद आती है। मेने उसे होंसला रखने को बोला।

फेर एक महीने के बाद एक बार मैं किसी रिश्तेदारी से वापिस आ रहा था। तो मुझे बस में उसकी एक झलक देखने को मिली। उसके साथ कोई औरत और भी थी, जो शायद उसकी सासु माँ या अपनी माँ कोई भी हो सकती थी। सो उसकी वजह से उसे चाह कर भी बुला न सका। वो सारे रास्ते में मेरी तरफ देखकर रोती रही, पर मैं उसकी इज़्ज़त पे आंच ना आ जाये इस लिए उसको बुला भी न सका।

Comments

Scroll To Top