Vidhwa Teacher Ki Chudai – Part 1

Click to this video!
Deep punjabi 2016-08-07 Comments

वो कुछ नही बोली और सिर्फ रो रही थी और कुछ भी बता नही रही थी। जिस से मुझे उसकी और भी चिंता हो रही थी। इतने में डॉक्टर जब दुबारा चेक करने आया मैडम ने अपना चेहरा साफ कर लिया और ऐसे पड़ी रही जेसे 5 मिनट पहले कुछ हुआ ही नही था।

डॉक्टर ने उसका बुखार चेक किया और बोला, बधाई हो आपकी बीवी का बुखार काफी हद तक उत्तर चूका है। अच्छा किया के जल्द से ले आये वरना इनके दिमाग को बुखार हो सकता था।

डॉक्टर ने दवा दी और कल फेर चेक करवाने को कहा, वहां से निकल कर जब रोड पे आये तो पूछा क्या बात है आप इतना रो क्यों रही थी।
वो बोली, घर चलो सब बताती हूँ,

फेर एक रेस्टोरेंट के सामने रोकने का इशारा किया और बोला, ये लो पैसे और अंदर से खाना पैक करवा लाओ, आज तबियत खराब की वजह से मुझसे बनेगा नही। मैंने वैसा ही किया और खाना लेकर उसके घर आ गए। उसने एक टेबल पे खाना परोसा और हम दोनों खाना खाते बाते करने लगे। उसने बताया के उसका यह अपना शहर नही है, वो यहां सिर्फ नौकरी करती है।

मैंने पूछा, तो तुम्हारा असली घर कहाँ है और घर वाले कहाँ है, ?

मेरी इस बात पे फेर रोने लगी,” मैंने उठ कर उसे गले लगाया और चुप कराया और पूछा क्या वजह है बार बार रोने क्यू लग जाते हो।

वो बोली,” दीप काश मेरा पति भी इतना प्यार कर पाता, जितना तुमने सुबह से लेकर अब तक किया है।

पति का नाम सुनते हीे मुझपे तो जैसे एक बिजली गिर गयी।

क्योंके बाकि लोगों की तरह मैं भी अब तक उसे कुंवारी ही समझ रहा था।

मैंने हैरानी से पूछा अ,” क्या आप शादीशुदा हो ?

वो रोते हुए बोली,” हाँ दीप मेरी शादी भी आज से 5 साल पहले माँ बाप ने बड़ी धूम धाम से की थी। मेरा अपना मायका श्री गंगानगर (राजस्थान) में है और सुसराल श्री मुक्तसर साहिब (पंजाब) में है। मेरे घर वालो ने मुझे खूब दाज़ दहेज देकर विदा किया था अपने घर से, पर कहते है न जब किस्मत में सुख न हो, तो अकेला पैसा भी कुछ नही कर सकता।

शादी के 1 साल बाद ही मेरा पति मनमीत मुझे बात बात पे मारने पीटने लगा।जब एक बार मै 6 महीने तक गर्भवती हुईं, तो एक दिन दारू पीकर घर आया जब उससे इतनी दारू पीने का कारण पूछा तो मुझे इतना मारा के अपने आप मेरा गर्भपात हो गया। एक महीना मायके में पड़ी रही।

मैं उनसे बहुत प्यार करती थी, पर मार पीट की वजह और अपने बच्चे को खो देने के गुस्से से उनसे दूरी बनाकर रखी थी। कई महीनो बाद एक दिन मेरा पति मायके आया और मुझसे माफ़ी मांगी के आगे से ऐसी गलती कभी नही होगी।

कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार निचे कोममेंट सेक्शन में जरुर लिखे.. ताकि देसी कहानी पर कहानियों का ये दोर आपके लिए यूँ ही चलता रहे।

तो माँ बाप ने मुझे उनके साथ भेज दिया। मुझे भी लगा शायद अब सुधर गए है, अब नही कोई शिकायत का मौका देंगे। पर मेरी सोचनी गलत थी। मेरे सुसराल आने के बाद कुछ दिन माहौल ठीक रहा फेर वही झग़डा, मार पीट करने लगा और एक दिन ज्यादा नशा कर लेने की वजह से रात को एक गाडी की चपेट में आने से इनकी मौत हो गयी।

भगवान भी जैसे मेरी परीक्षा ले रहा था। पहले मारपीट झेलती रही, फेर बच्चा खो दिया, और अब पति भी ज़िन्दगी से निकल गया। पहले तो अकेली गोद सूनी थी, अब मांग भी सूनी हो गयी थी।

पढ़ते रहिये.. क्योकि ये कहानी अभी जारी रहेगी और मेरी मेल आई डी है “[email protected]”.

Sex Stories In Hindi

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top