Shushma Ki Chut Me Ushma – Part III

Click to this video!
vikky360001 2015-05-25 Comments

This story is part of a series:

Shushma Ki Chut Me Ushma – Part III

मैंने पहले ही दिन सुषमा की चूत की उष्माँ महसूस कर ली… यहाँ मजे होने वाले हे यही सोचने लगा..

अब कहानी आगे.. एक बात क्लियर कर दू के सभी अस्पतालों में ऐसा होता नहीं, यह तो में कहानी को रोचक बनाने लिख रहा हु. अस्पताल में नर्सेज और डॉक्टर्स अच्छे होते हे…वो जो सेवा करते हे कभीकभी हम अपने घर में भी नहीं पाते. मेरा मकसद नर्सेज और डॉक्टर्स को बदनाम करना नहीं हे. वो लोग काफी माननिय होते हे और में दिल से उनका सन्मान करता हु. कहानी की बाते कहानी तक ही सिमित रखे..

सुषमा: (सपना को आंख से सेक्सी इशारा करते हुए) अच्छा तो अब तुजे भी कुछ सिखने यहाँ आना हे, जब तेरी ट्रेनिंग हो रही थी तब तो कह रही थी की बहोत बोर हो रही हो…तब तो दिन में १० डाट खाती थी औ और सबनम…

सपना: हा सुष्माजी पर तब मुझे ऐसा माहोल भी तो नहीं मिला? (सुषमा ने आंखे निकाली तो सपना ने टॉपिक चेंज करते हुए)

सपना: अच्छा विकिजी आपके रहनेका क्या इंतजाम हुआ, सहिस्ता कह रही थी आप जूनी. डॉक्टर्स क्वाटर्स में रहेगे…हमारे पडोसी होंगे!!! (बिचमे सुषमा बोल उठी..)

सुषमा: क्यों..? तुजे कोई एतराज? अगर तुजे एतराज हे की डॉक्टर्स आपके बगल में आ रहे हे तो में तेरा क्वाटर ले लूगी और तुम कही बहार रह लेना..

सपना: अरे नहीं मेंम!! ये तो और भी अच्छा हे, नये साब आप से कुछ शिखेगे, हम उनसे फुरसत में कुछ न कुछ सिख लिया करेगे, क्यों साब हमें भी कुछ नया अनुभव करायेगे ना?

में: हां जी में तो आप को सबकुछ शिखाना चाहता हु पर पहले अपने अनुभवी गुरु हमें तो कुछ शिखा दे.., फिर हमें साथ ही सब करना हे, मिल के करेगे तो…. (सुषमा बिच में ही.. )

सुषमा: (सेक्सी अंगड़ाई लेते हुए) हां असली मजा सब के साथ आता हे, क्यों सपना ग्रुप बनायेगे?

सपना: वाव….इट्स ओके…मुझे तो अपने ग्रुप में शामिल कर ही लेना.. क्यों साब आप हमारे साथ काम करना पसंद करोगे???

(वो मेरी बगलवाली चेर पर खुश होते हुए मुस्कुराती बेठ गयी तो उसकी वाइट स्कर्ट जांघो तक आ गयी और उसमे से उसकी चिकनी बिना रोए की मखन सी मुलायम, गोरी जांघ मुझे दिखाई दी. मेरा लोडा अन्दर ही अन्दर फनफना के दस्तक देने लगा.. मैंने सुषमा देखे नहीं ऐसे टेबल के निचे से अपने हाथ से उसकी जांघ को अहिस्ता से दबाते हुए ….)

में: क्यों नहीं, मेने तो अबतक सिर्फ किताबे पढ़ी हे, असली अनुभव तो आपसे ही होगा…

मैंने हलके से उसकी जांघ पे हाथ फिराया, वो थोडा हट गयी, उसे करंट लगा…साली काफी सेक्सी थी.. (उसने अपना पैर मेरे पैर पे ठोका और हाथ हटाने का इशारा किया, मेने अहिस्ता उसकी चिकनी गोरी मुलायम जांघ से चुटी ली, उसने फिर पैर मारा)

सुषमा: विकी तुम अपना सामान लेके शाम ६ बजे जू. क्वाटर ९ में जाना, सपना ये ले चाबी, स्वीपर से क्वाटर साफ़ करा ले. और इनको यहाँ सेट होने में हेल्प कर..

में और सपना ऑफिस ने निकले, सपना ने पियोन को बुलाया और कहा साब का सामान क्वाटर ९ में ले आ.. मैंने उसे कार की चाबी दी और सपना की जुलते गोल मस्त चुतड को देखते हुए सपना के पीछे चला….चलते चलते में उसके चुतड को अहिस्ता से अपनी हथेली से चपत मार लेता और वो मुस्कुराते पीछे देखती तो में सॉरी कह देता…

हम लोग अपने क्वाटर पहुचे..मैंने देखा क्वाटर में काफी धुल थी क्योकि कोई रहता नहीं था..

में: सपना इसमें तो काफी सफाई करनी पड़ेगी.. तबतक में क्या करू? सपना ने इण्टरकॉम से सुषमा से कहा

सपना: मेंम क्वाटर में काफी सफाई करनी पड़ेगी, इसमें कोई रहता नहीं था तो काफी धुल मिटी जमी हे…साब को गेस्ट हाउस में भेज दू? क्वाटर कल तक ही ठीक होगा..

सुषमा: एक काम करो स्वीपर से सफाई करवालो में उसका आज का इंतजाम कर देती हु, अभी उसे फ्रेश होने अस्पताल के गेस्ट हाउस में भेज दो और शाम ६ बजे मेरे पास आने को कह दो.

में फ्रेश होक शाम ६ बजे सुषमा के पास पहुच, वो घर जाने को तैयारी कर चुकी थी…

में: में एक ऐरबेग में जरुरी सामान लेके आया हु..कहा रहना हे..?

सुषमा: मेरे घर…!! मेरे हसबंड इंग्लैंड गए हे और बच्चे पुणे पढाई कर रहे…चलो मेरे साथ…हम आपकी सुख सुविधा अच्छे से खयाल रखेगे और वैसे भी आज तो आपका पहला दिन हे और आप मेहमान हे…..

हम उसकी कार में बैठ उसके घर की और चले…में उसकी बगल वाली सीट पर बैठ गया.. उसने कार में ऐ.सी. चालू करके मस्त सेक्सी ट्यून चालू की..वो कार चलाने लगी, साली गजब की माल लग रही थी और में उसे किसी न किसी बहाने छूने को मचल रहा था, बिच बिच में वो मेरे हैण्डसम चहेरे को निहार लेती थी. उसने मुझे अपने बारे में पूछा, मेंने अपने और फॅमिली के बारे में बताता गया…फिर अपनी पढाई और कोलेज के बारे में बात करने लगा. बात करते करते में उसकी मस्त मोटी जांघ पे हाथ रख देता…वो जरा आंखे दिखाती और नकली गुस्सा करती मुझे हा हम्म्म जवाब दे रही थी…अब मैंने अपनी एक हथेली उसकी जांघ पे अच्छे रख दी, पर बाप रे उसकी जांघ ऐसी होने बावजूद काफी गर्मागर्म थी..में अपनी धीरज खो रहा था.. पर वो आंखे निकल कर बोली…

सुषमा: अरे सीधे बैठो..अच्छे बचे शरारत नहीं करते..

Comments

Scroll To Top