Us Raat Ek Ajnabi Bana Mera Pati – Part II


Click to Download this video!
spermwife 2015-09-18 Comments

This story is part of a series:

फिर वो.. निप्पल के पास गरम साँसों से हवा करते है .और माइन उइमाआआ करती हु .वो हलके से निप्पल को में भर कर.. हलके हलके से चूसने लगते है और दूसरे हाथ से दूसरे निप्पल को दबाते रेह्ते है।

वो थोड़ी देर बाद दूसरे निप्पल को चूसने लगते है और पहले वाले को दबाने लगते फिर वो मेरा पूरा स्तन अपने मु में ले लेते है और झोर जोर से दबा दबा कर चूसने लगते है.. और फिर दोनों को १० से 15 min तक चूसने के बाद मेरी तरफ देखैत हैं और मेरी आँखे बेहोशी से खुल नहीं रही। फिर वो मेरे फेस को हाथो से पकड़ कर होठो को चुम कर बोललते है ” जान इनमे तो दूध नहीं है अभी ?

अब वो मेरी पेटीकोट उतार लेते और पेंटी भी. फिर वो मेरी नाभि पर अपने होठ रखते है और उसी में अपनी जीब दाल कर उस्सका स्वाद लेने लगते है. और मैं यहाँ जोश में होश खो बैठती हूँ, वो तो बस मेरी नाभि को चाटे जा रहे है, और मैं सिसकय पर सिसकिया लेती जा रही हु,  और फिर वो मेरे पेट को चुम लेते है।

वो थोड़ी डियर तक मेरे नाभि और पेट को चाटे और चूमते रेह्ते है .फिर वो मुझे उठा लेते है.. और मैं उनको सुला देती हु। पीठ के सहारे।

फिर मैं उनके पैरो के पास जा कर …पहले उन्हें सहलाती हूँ,  और फिर पैर के अंघूटe को मु मैं ले कर चूस लेती हु और फिर दूसरे पैर के अंगूठे को भी .फिर उनके पैर के तलवे को चाटने लगाती हु और सभी ऊँगली को बारी बारी मु में ले कर चूस लेती हु।

फिर धीरे धीरे चूमते होए ऊपर उनके झांगो तक आयति हूँ. और वह चाटने और किश करने लगती हूँ.. फिर उनकी पैरो को फैला कर उनके लिंग के बॉलs के निचे अपना मु ले जाती हु और वह हलकी हलकी गरम साँसे छोड़ती हु.. फिर वह अपनी जीब से उस जगह को चाट लेती हूँ।

फिर मैं उनके बॉल्स को उठा कर उनको निच्चे से किस करती हूँ और उन्हें मु में भर कर.. हलके हलके चूस लेती हु .और वो मुझे बहुत प्यार से बोलते है “चूस लो बस चूस जान” !  लेकिन मैं उनके बॉल्स को मु में भर कर हलके हलके चुस्ती रहती हूँ.. और फिर उनके लिंग को हाथ में ले कर सहलाने लगती हूँ।

अब मैं थोड़ा और उप्पर आकर उनके लिंग को अपने माथे से लगा कर उसका आशीर्वाद लेती हु .ताकि उससे खुस कर सकु और फिर लिंग को सहला कर उसस्की foreskin निच्चे कर देती हु.. लिंग को निच्चे से ऊपर तक चाट लेती हु और फोरस्किन निच्चे करने के बाद उनके लिंग से पानी जो चिपका होआ था उसे चूसने के लिए लिंग को हलके से अपने होठो के बीच दबा कर चूसने लगी और उससे सुख दिया।

फिर मैं उनके लिंग के मुख को फिर से मु में ले कर अपनी थूक लगा कर उससे फिर गिला किया .मेरा मु खोल और उसमे उन्होंने ने अपनी थूक गिरा कर मुझसे कहा “ले अब फिर से गिला कर इससे और मैं शर्मा कर फिर से उसी तरह लिंग के पास आई. और फिर लिंग के मुख को मु में भर कर. हलके हलके चूस कर उनको मज़े देने लगी।

अब मैं धीरे धीरे उनके लिंग को अपने मु माइन अंदर ले रही थी.. और वो आह आह कर रहे थे. अब मैं लिंग को अपने मु में अंदर बहार करने लगी और उनको मुख मैथुन का मज़ा देने लगी उम्म्म्हह… उम्म्ह्हह्ह… आह हे भगवन वो तो एक दम गरम था।

ऊउई.. माँ.. आह्ह्ह्ह… उम्म्म्हह्ह..

सारा कमरा हमारी सिस्कारियों से गूंज रहा था।

अब मैं झोर झोर से चूसने लगी .और होठो को भी सिकुड़ लिया मेने .ताकि लिंग पर सही पकड़ बानी रहे.. और अंदर हो सके उतना गले तक लेने लगी। उनको अच्छा लगेने लगा.. उम्म्हह्हा.. आह्ह्ह्ह… हाई दइया उन्होंने ने तो सारा वीर्य मुझे पिला दिया.. आम्म्म्म..

आगे की कहानी… जब आप कहेंगे तो शेयर करुँगी? तब तक बताइए कैसी लगी मेरी रियल लाइफ कहानी ??? मुझे मेल करके बताइये।

दोस्तों मेरी ईमेल आई डी है “[email protected]”। कहानी पढने के बाद अपने विचार नीचे कमेंट्स में जरुर लिखे। ताकी हम आपके लिए रोज और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सकें। डी.के

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top